उत्तराखण्ड किसान पेंशन योजना (KPY) आवेदन पत्र / रजिस्ट्रेशन – किसानों को 1000 रूपये प्रतिमाह देगी सरकार

Dated: January 2, 2019 | Updated On: April 11, 2019 | By: Karan Chhabra | |
Uttarakhand Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana

उत्तराखंड में आर्थिक तंगी से परेशान किसान लगातार पलायन कर रहे हैं, जिसके चलते उत्तराखंड सरकार को किसानों के लगातार पलायन को रोकने के लिए किसान पेंशन योजना (KPY) शुरू करी है। उत्तराखंड किसान पेंशन योजना के तहत राज्य में 60 वर्ष से अधिक आयु एवं 02 हेक्टेयर (करीब चार एकड़) तक के भूमिधर किसान जो स्वयं की भूमि में खेती करते होें या फिर किसी अन्य स्रोत से पेंशन प्राप्त न कर रहे हों उन्हें 1,000 रूपये प्रतिमाह पेंशन के रूप में दिये जाएंगे।

किसान पेंशन योजना (KPY) उत्तराखंड की शुरुआत फसल खराब होने पर राज्य सरकार द्वारा किसानों की आर्थिक तंगी दूर करने के लिहाज से की गयी है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को अपनी भूमि के संबंध में 10 रूपये के स्टाम्प पेपर पर शपथ-पत्र / Affidavit देना होगा। जिसके बाद संबंधित विभाग द्वारा पड़ताल करने के बाद किसानों को पेंशन मिलनी शुरु हो जाएगी।

राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई इस सरकारी योजना के तहत अगर किसान स्वयं की भूमि पर अगर खेती करना बंद करता है तो उसकी उसी दिन से KPY पेंशन सुविधा समाप्त हो जायेगी।

उत्तराखण्ड किसान पेंशन योजना (KPY) – आवेदन कैसे करें

उत्तराखंड किसान पेंशन योजना (KPY) का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को नीचे दी गई प्रक्रिया को पूरा करना होगा:

  • आवेदक को सबसे पहले KPY का आवेदन पत्र डाउनलोड करना होगा।
  • आवेदन पत्र डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करना होगा Kishan_Pension.pdf 
  • जिसके बाद आपको उत्तराखंड किसान पेंशन योजना फॉर्म कुछ इस तरह का दिखाई देगा जैसे नीचे इमेज में दिखाया गया है।
  • उत्तराखंड किसान पेंशन योजना आवेदन पत्र

    उत्तराखंड किसान पेंशन योजना आवेदन पत्र

  • KPY का आवेदन पत्र भरने के बाद उस पर ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत विकास अधिकारी (VDO) से हस्ताक्षर करवाने होंगे।
  • आवेदन पत्र पूरी तरह से भरने के बाद और उसके साथ नीचे बताये गए सभी जरूरी दस्तावेज लगाकर मुख्य कृषि अधिकारी के पास जमा करा दें।

राज्य सरकार का कहना है की पेंशन योजना से किसानों को थोड़ी राहत मिलेगी और वे पलायन करने के लिए मजबूर नहीं होंगे। इसके अलावा भी उत्तराखंड सरकार ने बहुत सी कल्याणकारी योजनाएं किसानों और राज्य के परिवारों के लिए चलाई हुई हैं, जिनका लाभ प्रदेश के हर नागरिक को मिल रहा है।

उत्तराखण्ड किसान पेंशन योजना (KPY) – जरूरी योग्यता / पात्रता

किसान पेंशन योजना (KPY) उत्तराखंड का लाभ लेने से पहले सभी आवेदक यह जांच ले की वह जरूरी पात्रता / मानदंडो को पूरा करता है या नहीं:

  1. आवेदक उत्तराखंड का मूल निवासी होना चाहिए।
  2. किसान की उम्र 60 साल या उससे अधिक होनी चाहिए।
  3. किसान के पास दो हेक्टेयर (करीब चार एकड़) से अधिक कृषि भूमि नहीं होनी चाहिए।
  4. किसान सरकार की किसी अन्य योजना से वित्तीय लाभ नहीं ले रहा हो।

उत्तराखण्ड किसान पेंशन योजना (KPY) – जरूरी दस्तावेज

किसान पेंशन योजना (KPY) उत्तराखंड का लाभ लेने से पहले सभी आवेदक यह जांच ले की उनके पास नीचे बताये जरूरी दस्तावेज़ हैं या नहीं:

  • किसान के पास आधार कार्ड होना चाहिए।
  • जमीन के मालिकाना हक के सारे दस्तावेज होने चाहिए।
  • अगर उसकी अपनी जमीन है तो शपथ पत्र (Affidavit) होना चाहिए।
  • किसान के बैंक अकाउंट की पास बुक की कॉपी।
  • लेटैस्ट पासपोर्ट साइज फोटो।

इस योजना के बारे में किसी अन्य जानकारी के लिए आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट socialwelfare.uk.gov.in पर जा सकते हैं।

Related Content