उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना 2019 – नवविवाहितों को 35000 रुपये की जगह 51000 रुपये की सहायता

Dated: January 28, 2019 | Updated On: April 12, 2019 | By: Karan Chhabra | |
Mukhyamantri Samoohik Vivah Yojana

उत्तर प्रदेश के की राज्य सरकार ने नए जोड़ों के लिए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना शुरू की है। इस योजना के तहत राज्य सरकार प्रत्येक नवविवाहित जोड़े को पहले 51000 रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान करेंगी जो पहले 35000 रूपये थी । 26 जनवरी 2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस योजना में दी जाने वाली राशि को बढ़ाकर 51 हजार रुपये करने की घोषणा की है। उपहार के रूप में एक नया मोबाइल फोन और अन्य घरेलू सामान भी राज्य सरकार योजना के तहत प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के दिशानिर्देश और ढांचे को उत्तर प्रदेश के समाज कल्याण विभाग द्वारा तैयार किया जाएगा। इस योजना का उद्देश्य राज्य के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के जोड़ों के लिए शादी के अवसर पर वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस योजना के द्वारा 9 फरवरी 2019 को पूरे प्रदेश में 10 हजार जोड़ियों के सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन किया जायेगा।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना – ऑनलाइन आवेदन

  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदकों को इसकी आधिकारिक वेबसाइट swd.up.nic.in जाना होगा।

    Mukhyamantri samoohik-vivaah yojana uttar-pradesh

  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको सामूहिक विवाह योजना एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा उस पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के बाद एक नया फॉर्म खुलेगा जिसमे सम्पूर्ण जानकारी सही तरीके से भरकर सबमिट बटन पर क्लिक करके अप्लाई करना होगा ।
  • इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन शादी की तिथि के 90 दिन पहले तथा 90 दिन के बाद अप्लाई करना जरुरी है।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना – योग्यता मापदंड

उत्तर प्रदेश सरकार इस योजना का लाभ उठाने के लिए कुछ मापदंड तय किए हैं जो कि नीचे दिए हुए हैं

  • यह योजना उत्तर प्रदेश के नागरिकों के लिए ही लागू होगी।
  • विधवा और तलाकशुदा सहित सभी जोड़ों को योजना का लाभ मिलेगा, लेकिन वो सब गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों (BPL) का हिस्सा होने चाहिए।
  • सामूहिक विवाह समारोह में कम से कम 10 जोड़े शामिल होने चाहिए।
  • शादी के लिए कन्या की उम्र 18 वर्ष और लडके की उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए ।
  • आवेदनकर्ता वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्रों 46080 रूपये और शहरी क्षेत्रों 56460 रूपये होनी चाहिए।
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग के आवेदकों को तहसील द्वारा ऑनलाइन निर्गत जाति प्रमाण पत्र का नंबर दर्ज करना अनिवार्य होगा।
  • वृदावस्था पेंशन ,निराश्रित विधवा पेंशन, विकलांग पेंशन तथा समाजवादी पेंशन वाले आवेदकों को आय प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं होगी।
  • एक परिवार से अधिकतम 02 पुत्रियों की शादी हेतु अनुदान प्रदान होगा।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना की मुख्य विशेषताएं

उत्तर प्रदेश सरकार की सामूहिक विवाह योजना के लिए कुछ मुख्य आकर्षण इस प्रकार हैं

  • उत्तर प्रदेश के नागरिकों के लिए सामूहिक विवाह योजना है।
  • सभी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग या BPL श्रेणी वाले परिवार इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • समाज के गरीब वर्गों की विधवाओं और तलाकशुदा महिलाओं को भी इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • राज्य सरकार प्रत्येक जोड़ी को 51000 रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी, लेकिन सामूहिक विवाह समारोह में कम से कम 10 जोड़े होने चाहिए।
  • इसके अलावा, सरकार गरीब परिवारों के जोड़े को शादी की पोशाक और ‘बिछिया’ (पैर की अंगूठी) भी प्रदान करेगी।
  • इन विवाहों को जिला मजिस्ट्रेट्स द्वारा प्राधिकृत किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत सामूहिक विवाह कार्यक्रम स्थानीय निकायों जैसे नगर पंचायत, नगर पालिका और नगर निगम, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत, सरकारी / अर्ध-सरकारी संगठनों और गैर सरकारी संगठनों द्वारा आयोजित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना – जरुरी दस्तावेज़

  • वर और वधु की पासपोर्ट साइज की फोटो
  • जाति प्रमाण पत्र – SC/ST/OBC
  • पहचान पत्र – आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र
  • आयु का प्रमाण पत्र – जन्म प्रमाण पत्र

इस योजना से जुडी अधिक जानकारी के लिए इसकी आधिकारिक वेबसाइट  http://swd.up.nic.in पर जाकर प्राप्त कर सकते है या फिर नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके PDF में डाउनलोड कर सकते है।

http://www.shadianudan.upsdc.gov.in/doc/ShadiAnudaanGO.pdf

 

Related Content