उत्तर प्रदेश कन्या सुमंगलम योजना 2019 – बालिकाओं के जन्म से पढ़ाई तक वित्तीय सहायता

Read in English
Dated: February 12, 2019 | Updated On: September 28, 2019 | By: Karan Chhabra |
उत्तर प्रदेश कन्या सुमंगलम योजना 2019 – बालिकाओं के जन्म से पढ़ाई तक वित्तीय सहायता

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की बेटियों के लिए यूपी बजट 2019-20 में कन्या सुमंगलम योजना की घोषणा कर दी है। इस योजना का उद्देश्य महिलाओं के स्वास्थ्य और शिक्षा के स्तर में सुधार करना और उनकी मानसिकता में सकारात्मक बदलाव लाना है। यूपी कन्या सुमंगलम योजना 2019 भाजपा के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार की लाडली लक्ष्मी योजना पर आधारित है।

यूपी कन्या सुमंगलम सरकारी योजना में, पूर्व निर्धारित राशि को उनकी शिक्षा और विवाह में सहायता के लिए बालिकाओं के नाम पर नियमित समय पर जमा किया जाएगा। यह राशि लड़कियों के बैंक खाते में प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (Direct benefit transfer – DBT) के माध्यम से दी जाएगी। इस योजना के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या पर नियंत्रण लगाना और प्रदेश में लड़कियों और लड़कों के बीच लिंगानुपात में सुधार करना आसान हो जाएगा।

उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने बजट 2019-20 (Financial Year 2019-20) में इस कन्या सुमंगलम योजना के सफल कार्यान्वयन के लिए 1200 करोड़ रूपये भी आवंटित किये है।
लेटैस्ट न्यूज़ : उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना 2019 ऑनलाइन आवेदन, पंजीकरण – जरूरी पात्रता / दस्तावेज सूची

उत्तर प्रदेश कन्या सुमंगलम योजना 2019

यूपी कन्या सुमंगलम योजना 1 अप्रैल 2019 से लागू होने जा रही है और इस योजना के विवरण पर काम किया जाना बाकी है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्री-निर्धारित राशि निम्नलिखित तरीको से बालिकाओं के बैंक खातों में जमा की जाएगी:

  • बालिका के जन्म के समय पहली किस्त
  • टीकाकरण के समय दूसरी किस्त
  • पहली कक्षा में लड़कियों के प्रवेश के समय तीसरी किस्त
  • जब लड़की छठी कक्षा में पहुँचती है तब चौथी किस्त
  • 5 वीं किस्त जब एक लड़की कक्षा IX तक पहुंचती है
  • 6 वीं किस्त उस समय जब लड़की ग्रेजुएशन शुरू करती है
  • लड़की की शादी के समय 7 वीं किस्त

राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि जब तक लड़की ग्रेजुएट या विवाहित नहीं हो जाती, तब तक लड़कियों को यह राशि मिलती रहे। यूपी सरकार की यह योजना केंद्र सरकार की “बेटी बचाओ बेटी पढाओ” योजना के सहयोग से काम करेंगी। इससे पहले, अखिलेश ने यूपी सरकार का नेतृत्व किया था जब कन्या विद्या धन योजना शुरू की थी जिसमें यूपी बोर्ड के तहत इंटरमीडिएट पास करने वाली सभी लड़कियों को 30,000 रुपये की एक बार सहायता दी गई थी। यह कन्या विद्या धन योजना बाद में मदरसों से पास करने वाली लड़कियों के लिए बढ़ा दी गई थी।

विभिन्न राज्यों की सरकार जैसे बिहार ने स्कूली लड़कियों को नियमित रूप से स्कूलों में जानें के लिए प्रोत्साहित करने के लिए साइकिल वितरित करना शुरू किया है। यूपी कन्या सुमंगला योजना एमपी लाडली लक्ष्मी योजना से अपनी प्रेरणा प्राप्त करती है।

हालांकि, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि यूपी कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन पत्र कैसे आमंत्रित किए जाएंगे और प्रत्येक लड़की को कितनी राशि मिलेगी। इसकी जानकारी बाद में अपडेट की जाएगी। इस योजना को 1 अप्रैल 2019 से लागू किया जाना है।

SAVE AS PDF
Related Content