उत्तर प्रदेश साधु / संत पेंशन योजना 2019 – साधुओं के लिए पेंशन स्कीम का शुभारम्भ

Dated: January 22, 2019 | Updated On: April 12, 2019 | By: Karan Chhabra | |
Yogi Adityanath UP Sadhu Pension Scheme

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने संतों के लिए यूपी साधु पेंशन योजना 2019 शुरू करने का फैसला किया है। अब सभी सेवकों साधु-संतों को उत्तर प्रदेश साधु पेंशन योजना के तहत मासिक पेंशन मिलेगी, जिसके लिए प्रयागराज में कुंभ के बाद जनवरी 2019 में कैबिनेट की बैठक होने वाली है। इस सरकारी योजना का लाभ सभी संतों को मिलेगा जो अभी तक नहीं मिल रहा था। हाल ही में हुई उच्च स्तरीय बैठक में योगी आदित्यनाथ ने संतों के नामांकन के लिए विशेष शिविर आयोजित करने का निर्णय लिया। साधु महात्माओं के लिए यह योजना अपनी तरह की इकलौती पेंशन स्कीम है।

यूपी साधु पेंशन योजना 2019 (Sadhu Pension Scheme) में सभी संतों को शामिल किया जाना है चाहे वे बेघर हों या खानाबदोश हों। इसके अलावा, यूपी के माननीय मुख्यमंत्री ने बुजुर्ग साधुओं को शामिल करने के लिए एक विशेष श्रेणी बनाने का भी निर्णय लिया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा की साधु संत हिंदुत्व का प्रतिनिधित्व करते है तो उन्हे भी सभी केंद्र सरकार और राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए। इसी उद्देश्य के लिए UP Sadhu Pension Scheme को राज्य में शुरू किया गया है।

उत्तर प्रदेश साधु पेंशन योजना 2019

सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा साधु पेंशन स्कीम 2019 के तहत 500 रूपये प्रतिमाह दिये जाएंगे। यूपी संत पेंशन योजना 2019 का इम्प्लीमेंटेशन का निर्णय प्रयागराज कुंभ में एक बैठक में लिया जाएगा, जिसकी अध्यक्षता सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे।

यूपी साधु संत पेंशन योजना

यूपी साधु संत पेंशन योजना

उत्तर प्रदेश राज्य में 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी साधु / संतों को यूपी संत पेंशन योजना 2019 के तहत कवर किया जाएगा। इसके अलावा, सीएम योगी ने वृद्धावस्था, विकलांग, विधवा के लिए पहले से मौजूद यूपी पेंशन योजना की वित्तीय सहायता में वृद्धि करने की भी घोषणा कर दी है।

उत्तर प्रदेश पेंशन योजना 2019 की घोषणा करने का प्राथमिक उद्देश्य राज्य के वृद्धावस्था, विकलांग, विधवा और साधु को बेहतर आजीविका प्रदान करना है। यूपी सरकार ने 20 जनवरी 2019 से यूपी साधु पेंशन योजना के तहत राज्य के साधुओं का नामांकन शुरू कर दिया है।

Related Content