किसानों के लिए खरीफ और रबी फसल 2018-19 पर MSP लागत से 50% तक बढ़ी

Views: 2713 | Dated: January 2, 2019 | Updated On: April 11, 2019 | By: Karan Chhabra | | By | Beneficiaries: |
किसानों के लिए खरीफ और रबी फसल 2018-19 पर MSP लागत से 50% तक बढ़ी

भारत सरकार की कैबिनेट समिति (Cabinet Committee on Economic Affairs – CCEA) ने रबी और खरीफ की फसलों पर 2018-19 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्यों (Minimum support price – MSP) में वृद्धि को मंजूरी दे दी है जिसे वर्ष 2019-20 में बाजार में लागू किया जायेगा। किसानों के लिए शुरू की गई इस पहल से उन्हे MSP बढ़ने पर लगभग 62,635 करोड़ रूपये का अतिरिक्त फायदा मिलेगा। रबी की फसल के लिए 2018-19 MSP (Minimum Support Price) की टेबल आप नीचे देख सकते हैं।

इस नए MSP में सभी लागत को शामिल किया जाएगा जैसे की मानव श्रम, बैल श्रम / मशीन श्रम, भूमि के पट्टे के लिए किराया, बीजों, उर्वरकों, खाद, सिंचाई शुल्क, उपकरणों पर मूल्यह्रास जैसे सभी खर्च भुगतान लागत में शामिल किए जायेंगे। केंद्र सरकार ने 22 खरीफ और रबी की फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्यों (MSP) को लागत से कम से कम 50 प्रतिशत रिटर्न में बढ़ा दिया है।

धान जैसी खरीफ फसलों के लिए MSP 1550 रुपये से बढ़ाकर 1750 रुपये, ज्वार के लिए MSP 1700 रुपये से बढ़कर 2430 रुपये, जो की अब तक की सबसे हाई है, बाजरा की MSP 1425 रुपये से बढ़ाकर 1950 रुपये कर दिया गया है। इसके अलावा गेहूं के लिए MSP 105 रुपये प्रति क्विंटल, सेफ्लॉवर (Safflower) 845 रुपये प्रति क्विंटल , जौ 30 रुपये प्रति क्विंटल, मसूर दाल 225 रुपये प्रति क्विंटल, चना 220 रुपये प्रति क्विंटल और रैपसीड और सरसों 200 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाया दिया है।

रबी और खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 2018-19

रबी और खरीफ फसल 2018-19 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) जो 2019-20 में बाजार में बेचें जाने हैं नीचे दिये गए हैं:

  • गेहूं, जौ, ग्राम, मसूर, रैपसीड, सरसों और केशर के लिए सरकार द्वारा तय की गई विभिन्न फसलों के लिए MSP उत्पादन की लागत से काफी अधिक है।
  • गेहूं के लिए, उत्पादन की लागत 866 प्रति क्विंटल रुपये है। MSP 1840 रुपये प्रति क्विंटल जो उत्पादन लागत से 112.5% का रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
  • जौ के लिए, उत्पादन की लागत 860 रुपये प्रति क्विंटल है। MSP 1440 रुपये प्रति क्विंटल जो उत्पादन लागत से 67.4% की रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
  • चना के उत्पादन की लागत 2637 रुपये प्रति क्विंटल है। MSP 4620 रुपये प्रति क्विंटल जो उत्पादन की लागत से 75.2 फीसदी का रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
  • मसूर दाल के लिए, उत्पादन की लागत 2532 रूपये प्रति क्विंटल है। MSP 4475 रुपये प्रति क्विंटल उत्पादन की लागत से 76.7 प्रतिशत का रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
  • Rapeseed और सरसों के लिए, उत्पादन की लागत 2212 रूपये प्रति क्विंटल है। MSP 42.9 रुपये प्रति क्विंटल उत्पादन की लागत से 89.9 प्रतिशत का रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
  • कुसुम (safflower) के उत्पादन की लागत 3294 रूपये प्रति क्विंटल है। MSP 4945 रुपये प्रति क्विंटल उत्पादन की लागत से 50.1 प्रतिशत का रिटर्न सुनिश्चित करेगी।
रबी फसलों के लिए MSP MSP 2017-18 (रुपये / क्विंटल) MSP 2018-19 (रुपये / क्विंटल) उत्पादन की लागत 2018-19 (रुपये / क्विंटल) MSP में निरंतर वृद्धि MSP % में वृद्धि लागत पर रिटर्न (%)
गेहूं 1735 1840 866 105 6.1 112.5
जौ 1410 1440 860 30 2.1 67.4
चना 4400 4620 2637 220 5.0 75.2
मसूर (दाल) 4250 4475 2532 225 5.3 76.7
Rapeseed और सरसों 4000 4200 2212 200 5.0 89.9
कुसुम (Safflower) 4100 4945 3294 845 20.6 50.1
खरीफ फसलों के लिए MSP
धान 1550 1750 1166 200 12.90 50.09
ज्वार 1700 2430 1619 730 42.94 50.09
बाजरा 1425 1950 990 525 36.84 49.23

फसलों के लिए नई कीमतें साल 2022 तक प्रधान मंत्री के किसानों की दोगुनी आय के सपने को पूरा (Doubling Farmers Income by 2022) करने के लिए एक बहुत बड़ा कदम साबित होगी। सरकार ने श्रम, भूमि किराया, बीज, उर्वरक, सिंचाई शुल्क, बिजली इत्यादि जैसे उत्पादन लागत में वृद्धि होने पर इन फसलों के MSP पर विचार करके वृद्धि करी है।

SAVE AS PDF
Related Content