प्रधानमंत्री जल जीवन अभियान – 2024 तक हर घर नल-हर घर जल का लक्ष्य

Read in English
Dated: August 16, 2019 | Updated On: September 9, 2019 | By: Karan Chhabra | | By | Beneficiaries: |
PM Jal Jivan Mission Water Conservation

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से भाषण देते हुए पीएम जल जीवन मिशन 2019 (Prime Minister Jal Jeevan Mission) की शुरुआत कर दी है। पीएम नल से जल अभियान या जल जीवन मिशन (PM Jal Jivan Mission) में केंद्र सरकार 2024 तक पाइप के जरिए हर घर तक पानी पहुंचाएगी। प्रधानमंत्री जल जीवन अभियान की बात मोदी 2.0 सरकार ने अपना पहला बजट पेश करते हुए कही थी।

निर्मला सीतारमन ने बजट 2019-20 पेश करते हुए बताया था की देश में अब भी आधी आबादी ऐसी है जहां पर पानी के पाइप द्वारा जल की आपूर्ति नहीं होती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सरकारी योजना (Nal Se Jal Scheme) को सफल बनाने के लिए 3.5 लाख करोड़ रूपये खर्च करेंगे।

इसके अलावा उन्होने यह भी बताया की उनकी सरकार ने पूरे देश को खुले में शौच मुक्त भी बना दिया है।

प्रधानमंत्री जल जीवन अभियान 2019 – हर घर नल का जल

पीएम जल जीवन अभियान 2019 – हर घर नल से जल योजना (PM Nal Se Jal Scheme) को सफल बनाने के लिए सरकार ने पहले से जल शक्ति मंत्रालय (Jal Shakti Abhiyaan) का गठन कर दिया है, जो हर घर जल योजना के तहत प्रगति की रिपोर्ट सरकार को सौंपेगा। आजादी के 73 साल गुजर गए पर अभी भी देश में बहुत से लोगों को साफ, स्वच्छ पानी नहीं मिलता है। जिसके लिए मोदी सरकार पूरी निष्ठा के साथ काम कर रही है।

इसके अलावा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा भी था कि भारत में पानी की सुरक्षा और सभी भारतीयों को साफ पेयजल उपलब्ध कराना मोदी सरकार की पहली प्राथमिकता है।

Read in English : PM Jal Jeevan Mission – Piped Water Supply to All Families

सरकार प्रतिदिन के हिसाब से 43 से 55 लीटर पानी प्रति व्यक्ति देने की योजना बना रही है। जिसको मौसम के आधार पर बदला जा सकता है। इसके अलावा सरकार राष्ट्रीय जल जीवन कोष भी स्थापित करेगी, जो स्वच्छता मिशन की देखभाल करने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान देगा।

पीएम नल से जल योजना 2019 – लाभ, मुख्य बिंदु

पीएम नल से जल योजना या हर घर नल से जल स्कीम की कुछ मुख्य विशेषताएँ और जरूरी बिंदु (Benefits of Jal Jeevan Mission – Nal se jal scheme) हैं जिन पर मोदी सरकार काम करेगी:

  • जल शक्ति अभियान से देश के 256 जिलों के अधिक प्रभावित 1,592 खंडों पर जोर दिया जाएगा।
  • जल संरक्षण और वर्षा जल संचयन
  • परंपरागत और दूसरे जल निकायों का नवीनीकरण
  • जल को दोबारा इस्तेमाल करने लायक बनाने के लिए ढांचों का पुनर्निर्माण करना
  • जलविभाजन विकास और गहन वनीकरण
  • पेयजल की सफाई के लिए अन्य तकनीकों को खोजना

इन सभी जरूरी बिंदुओं पर काम पूरी तरह से हो सके इसके लिए केंद्र सरकार ने अपर सचिवों और संयुक्त सचिवों को इन 256 जिलों का काम पहले से ही सौंप दिया है। इसके अलावा केंद्र सरकार जल को सुरक्षित कैसे रखें और वर्षा जल संरक्षण कैसे करें इसके लिए जगह-जगह पर जागरूकता अभियान भी चलाएगी।

SAVE AS PDF
Related Content