महाराष्ट्र कायापलट अभियान और अटल आरोग्य वाहिनी एम्बुलेंस सेवा (आदिवासी जीवनदायिनी)

Read in English
Views: 2794 | Dated: December 7, 2018 | Updated On: September 19, 2019 | By: Karan Chhabra |
महाराष्ट्र कायापलट अभियान और अटल आरोग्य वाहिनी एम्बुलेंस सेवा (आदिवासी  जीवनदायिनी)

महाराष्ट्र सरकार ने आश्रम शाला के छात्रों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं और स्वास्थ्य जांच जैसी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए अटल आरोग्य वाहिनी एम्बुलेंस (आदिवासी जीवन दयानी) सेवा शुरू की है और साथ में ही कायापलट अभियान को भी 22 नवंबर 2018 को शुरू किया है।

महाराष्ट्र सरकार ने आश्रम शाला के छात्रों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए अटल आरोग्य वाहिनी की शुरुआत की है। इस योजना के तहत आदिवासी छात्रों को किसी भी उपचार सुविधाओं से वंचित नहीं रहना पड़ेगा और ये योजना उनके लिए जीवन रेखा (आदिवासी जीवनदायिनी) के रूप में कार्य करेगी।

यह अटल आरोग्य वाहिनी – आदिवासी जीवनदायिनी का लक्ष्य आदिवासी छात्रों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करना है और छात्रों को इस योजना से दोगुना फायदा पहुँचाना है।

योजना के तहत छात्रों की नियमित स्वास्थ्य जांच होगी और उनकी स्वास्थ्य समस्याओं की संपूर्ण जानकारी डैशबोर्ड पर आसानी से उपलब्ध होगी। यह परीक्षा के बाद या आपातकालीन मामलों में निदान की गई बीमारियों के लिए भी प्रदान की जाएगी।

महाराष्ट्र अटल आरोग्य वाहिनी (आदिवासी जीवनदायिनी)

अटल आरोग्य वैहिनी एक अच्छी तरह से सुसज्जित एम्बुलेंस है और नीचे दी गई विभिन्न सेवाएं प्रदान करती है

  • ARAI प्रमाणित बुनियादी जीवन समर्थन एम्बुलेंस के माध्यम से 24×7 आपातकालीन चिकित्सा सेवा।
  • एम्बुलेंस की सेवाएं लेने के लिए 24×7 सहायता केंद्र।
  • डॉक्टरों के माध्यम से स्कूलों में छात्रों की चिकित्सा जांच।
  • स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (HMIS) डिजिटल हेल्थ कार्ड मोबाइल ऐप के माध्यम से परियोजना की स्थिति की समीक्षा।
  • अस्पताल में भर्ती और उपचार के लिए मार्गदर्शन के लिए विशेषज्ञ स्वास्थ्य सलाह।
  • राज्य सरकार के स्कूलों में औषधालय की स्थापना।

राज्य सरकार ने इस पहल को शुरू कर दिया है और दूरदराज के इलाकों में छात्रों को आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने की व्यवस्था भी की गई है। योजना के तहत कुल 48 अच्छी तरह से सुसज्जित एम्बुलेंस जो प्रत्येक समूह के लिए एक होगी और 24 × 7 उपलब्ध रहेंगी। प्रत्येक एम्बुलेंस में बेसिक लाइफ सपोर्ट (BSL) के साथ 2 डॉक्टर और 1 स्वास्थ्य सहायक उपस्थित रहेगा।

राज्य सरकार आश्रमशालाओं में छात्रों की नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए कैंप का आयोजन करेगी। संक्रामक बीमारियों के इलाज के लिए दवाइयों और इंजेक्शन का स्टॉक भी किया जा रहा है। प्रत्येक छात्र के पास डिजिटल स्वास्थ्य कार्ड होना चाहिए क्योंकि इसमें स्वास्थ्य जांच की पूरी जानकारी होती है। सामान्य चिकित्सकों के अलावा, ENT विशेषज्ञों, नेत्र रोग विशेषज्ञ, त्वचा की सेवाएं भी प्रदान की जाएंगी।

सभी एम्बुलेंस में ECG, ऑक्सीजन सिलेंडर और अन्य आधुनिक उपकरण उपलब्ध होंगे। आश्रमशालायें दूरदराज के इलाकों में स्थित हैं इसीलिए सरकार सांप काटने या बिच्छू काटने के मामलों के इलाज के लिए जहर विरोधी इंजेक्शन का पर्याप्त स्टॉक भी सुनिश्चित करेगी।

इसके अलावा अभिभावकों और आस-पास के क्षेत्रों के लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए सरकार हर आश्रम में स्वास्थ्य समिति भी स्थापित करेगी। इस समिति में छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों को शामिल किया जाएगा।

SAVE AS PDF
Related Content