किसान रेल योजना (Kisan Rail Scheme) – किसान रेल रूट / बुकिंग

किसान रेल योजना के तहत चलने वाली किसान रेल का रूट, बुकिंग और टाइम टेबल की पूरी जानकारी - Complete details of Kisan Rail scheme such as route, booking, time table and benefits of scheme
Updated: By: No Comments - Leave a Comment

किसान रेल अथवा किसान रेल योजना (Kisan Rail Scheme) भारत सरकार की एक नई पहल है जिसके तहत भारतीय रेलवे किसानों के लिए 7 अगस्त 2020 से “किसान रेल” चला रही है। भारतीय रेलवे फल और सब्जियों के मालवहन के लिए ये नई रेलगाडियाँ चला रही है। इस योजना के तहत किसान रेल साप्ताहिक रूप से चलेंगी।

किसान रेल योजना (Kisan Rail Scheme) के तहत सबसे पहली रेल महाराष्ट्र के देवलाली से बिहार के दानापुर के बीच चलेगी। इस योजना की घोषणा फरवरी में पेश होने वाले बजट में ही कर दी गई थी। जो सब्जी, फल या अन्य कृषि उत्पाद जल्दी ही खराब हो जाते हैं उनको उनके गंतव्य स्थान अथवा मंडियों तक पहुंचाना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।

किसान रेल योजना को पीपीपी (सार्वजनिक निजी भागीदारी) के माध्यम से चलाया जा रहा है और इस योजना के तहत शीत भंडारण (Cold Storage) के साथ किसान उपज के परिवहन की भी अच्छी व्यवस्था की जाएगी।

किसान रेल योजना (Kisan Rail Scheme)

किसान रेल योजना के तहत चलने वाली पहली रेल महाराष्ट्र में देवलाली से बिहार में दानापुर के बीच में 32 घंटे में लगभग 1519 किलोमीटर का सफर तय करेगी।

किसान रेल का रूट – Kisan Rail Route

पहली किसान रेल रूट पर पड़ने वाले चार राज्यों महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार को इस किसान रेल का फायदा होगा। पहली किसान रेल का रूट कुछ इस प्रकार है

किसान रेल रूट: देवलाली > नासिक रोड > मनमाड > जलगांव > भुसावल > बुरहानपुर > खंडवा > इटारसी > जबलपुर > सतना > कटनी > मानिकपुर > प्रयागराज > पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर > बक्सर > दानापुर

किसान रेल योजना अथवा किसान रेल सेवा भारत में किसानों की आय को दोगुना करने के क्षेत्र में एक नया प्रयास है।

किसान रेल योजना – लेटैस्ट अपडेट – Kisan Rail Scheme Latest Update

रेलवे ने भारी मांग को ध्‍यान में रखते हुए देवलाली-मुजफ्फरपुर द्वि-साप्ताहिक किसान रेल के फेरे को बढ़ाकर 08 सितंबर 2020 से त्रि-साप्ताहिक करने का निर्णय लिया है। मध्य रेलवे (सीआर) के जनसंपर्क विभाग ने कल जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी देते हुए बताया कि मध्‍य रेलवे सांगोला और मनमाड के बीच लिंक किसान रेल के फेरे को भी द्वि-साप्ताहिक से बढ़ाकर त्रि-साप्ताहिक कर देगी जिसे मनमाड में देवमाली-मुजफ्फरपुर किसान रेल से संबद्ध/पृथक किया जाएगा। इस बारे में विवरण इस प्रकार है:

Central Government Schemes 2021केंद्र सरकारी योजना हिन्दीPopular Schemes in Central:प्रधानमंत्री आवास योजना 2021PM Awas Yojana Gramin (PMAY-G)Pradhan Mantri Awas Yojana

ए. 00107/00108 देवलाली-मुजफ्फरपुर-देवलाली किसान रेल (त्रि-साप्ताहिक)

ट्रेन संख्या 00107 किसान रेल 8.9.2020 से 25.9.2020 तक प्रत्येक मंगलवार, गुरुवार एवं शनिवार को देवलाली से पहले की ही तरह 18.00 बजे प्रस्थान करेगी और तीसरे दिन 04.45 बजे मुजफ्फरपुर जंक्शन पहुंचेगी।

ट्रेन संख्या 00108 किसान रेल 10.09.2020 से 27.9.2020 तक प्रत्येक गुरुवार, शनिवार एवं सोमवार को मुजफ्फरपुर जंक्शन से 08.00 बजे प्रस्थान करेगी और अगले दिन 13.00 बजे मनमाड पहुंचेगी।

ठहराव (हाल्‍ट): नासिक रोड (केवल 00107 के लिए), मनमाड, जलगांव (केवल 00107 के लिए), भुसावल, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, इटारसी, पिपरिया (केवल 00107 के लिए), गाडरवारा (केवल 00107 के लिए), नरसिंहपुर (केवल 00107 के लिए), जबलपुर , कटनी, सतना, मानिकपुर, प्रयागराज छिवकी, पं. दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, बक्सर और दानापुर।

संरचना: इस ट्रेन में देवलाली से 5 पार्सल वैन होंगी।

बी. 00109/00110 सांगोला-मनमाड-दौंड (त्रि-साप्ताहिक) लिंक किसान रेल

ट्रेन संख्‍या 00109 लिंक किसान रेल 8.9.2020 से 25.9.2020 तक प्रत्येक मंगलवार, गुरुवार एवं शनिवार को सांगोला से 08.00 बजे प्रस्थान करेगी और उसी दिन 18.30 बजे मनमाड पहुंचेगी।

ट्रेन संख्‍या 00110 लिंक किसान रेल 11.09.2020 से 28.09.2020 तक प्रत्येक शुक्रवार, रविवार एवं मंगलवार को मनमाड से 14.00 बजे प्रस्थान करेगी और उसी दिन 18.15 बजे दौंड पहुंचेगी।

ठहराव (हाल्‍ट): 00109 के लिए – पंढरपुर, कुर्दुवाड़ी, दौंड, बेलवंडी, अहमदनगर, बेलापुर, कोपरगांव, 00110 के लिए – अहमदनगर।

उद्घाटन दिवस यानी प्रथम परिचालन दिन (7.8.2020) किसान रेल पर लोडिंग (लदान) 90.92 टन की हुई थी जो 14.8.2020 को 99.91 टन और 21.8.2020 को 235.44 टन रही। फेरे को 25.8.2020 से बढ़ाकर द्वि-साप्ताहिक कर दिया गया जब लोडिंग 273.74 टन थी जो 28.8.2020 को 277.64 टन और 1.9.2020 को 354.29 टन रही। अब फेरे बढ़ा दिए जाने से लोडिंग में भी वृद्धि का रुख रहने की प्रबल संभावना है।

किसान रेल योजना का फायदा

किसान रेल योजना का मुख्य फायदा यह है कि इस योजना से मामूली लागत पर किसानों की फसल की देश के विभिन्न हिस्सों तक ढुलाई में सहायता मिलेगी। परिवहन की अनउपलब्धता के कारण किसानों को जो नुकसान झेलना पड़ता था अब उससे छुट्टी मिलगी।

देश के किसान समुदाय की सेवा के क्रम में, किसान रेल मल्टी कमोडिटीज, मल्टी कंसाइनर्स और मल्टी कंसाइनीज के तहत ढुलाई करेगी। किसान रेल अपने रूट पर पड़ने वाले स्टॉपेज के साथ मूल स्थान – गंतव्य तक जोड़ी में चलेंगी। साथ ही किसानों और व्यापारियों को किसान रेल रूट पर पड़ने वाले सभी स्टॉपेज से लोडिंग / अनलोडिंग की अनुमति होगी।

सामान की ढुलाई की व्यसथा समन्वय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के द्वारा की जाएगी।

किसान रेल बुकिंग

किसान रेल बुकिंग की जानकारी के लिए रेल बुकिंग की आधिकारिक वैबसाइट पर जाएँ।

योजना की अधिक जानकारी के लिए नीचे दिये गए लिंक पर जाएँ।

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1644088

Leave a Comment

CLOSESHARE ON: