मध्य प्रदेश स्वास्थ्य बीमा योजना – सरकारी कर्मचारियों व रिटायरों को 10 लाख का हैल्थ इनश्योरेंस

Updated: By: No Comments - Leave a Comment

मध्य प्रदेश सरकार सरकारी नौकरियों में काम करने वाले और रिटायर कर्मचारियों के लिए एक नई स्वास्थ्य बीमा योजना 2020 (Health insurance scheme for all serving and retired Govt employees) शुरू करने जा रही है। इस सरकारी योजना के बारे में बताते हुए सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देशानुसार, स्वास्थ्य बीमा योजना सभी सेवारत और सेवानिवृत्त अधिकारियों / कर्मचारियों और उनके परिवारों को 10 लाख तक की चिकित्सा सुविधा (Cashless Health Insurance Scheme in Madhya Pradesh) प्रदान करने के लिए तैयार की गई है। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना में 10 लाख (Cm Kamal Nath Health Insurance Scheme) तक का कैशलेस उपचार मुहैया कराया जाएगा।

सीएम स्वास्थ्य बीमा योजना 2020 (CM Rs. 10 Lakh Health Insurance Scheme to all serving and retired Govt employees) के अनुसार सामान्य बीमारियों के लिए 5 लाख रुपये तक की कैशलेस उपचार सुविधा और गंभीर बीमारियों के लिए 10 लाख रुपये तक चिकित्सा उपलब्ध कराई जाएगी। प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह के अनुसार लगभग 7.5 लाख सेवारत, कार्यरत और लगभग 5 लाख सेवानिवृत्त कर्मचारियों और उनके परिवारों को कैशलेस उपचार वाली हैल्थ इनश्योरेंस स्कीम का लाभ मिलेगा।

सामान्य प्रशासन मंत्री के अनुसार मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना में मुफ्त ईलाज (Health Insurance to Serving/Retired Government Servant in Madhya Pradesh) लेने के लिए सभी कर्मचारियों को स्वास्थ्य, हैल्थ कार्ड जारी किया जाएगा।

सीएम स्वास्थ्य बीमा योजना

मुख्यमंत्री हैल्थ इनश्योरेंस स्कीम का मुख्य उद्देश्य सेवारत व सेवानिवृत्त अधिकारियों / कर्मचारियों की अच्छी सेहत सुनिश्चित करना है। योजना का लाभ राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित अस्पतालों में ही लिया जा सकेगा। एमपी स्वास्थ्य बीमा योजना 2020 के अंतर्गत अस्पतालों की सूची व लिस्ट अभी तक जारी नहीं हुई है। इसके लिए सरकार जल्द ही अधिसूचना जारी करेगा। अभी योजना का संचालन कैसे करना है कौन-कौन से अस्पताल इसमें शामिल किए जाएंगे इसके लिए कार्य किया जा रहा है। सरकारी कर्मचारियों व रिटायरों को मिलने वाली इस 10 लाख की हैल्थ इनश्योरेंस स्कीम के लिए आवेदन ऑफलाइन लिए जाएंगे या ऑनलाइन इसकी जानकारी सांझा नहीं की गई है।

आधिकारिक सूत्रों के माध्यम से योजना का कार्यान्वयन एजेंसी के माध्यम से किया जाएगा जिसमें किसी भी कर्मचारी के इलाज में खर्च होने वाली राशि का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा सीधे अस्पतालों को किया जाएगा। अस्पतालों द्वारा किसी भी तरह का अनावश्यक बिल ना बनाया जाये इसके लिए भी अतिरिक्त अधिकारियों को निर्देश दिये गए हैं। इसके अलावा राज्य सरकार ने महा आयुष्मान भारत योजना भी प्रदेश में चला रखी है।

अभी हाल ही में मुख्यमंत्री जी ने मध्य प्रदेश संजीवनी मोहल्ला क्लीनिक का भी उदघाटन किया है। जिसमें लोगों को उनकी बीमारियों की जांच के लिए किसी तरह की कोई फीस देने की जरूरत नहीं है और साथ में दवाइयाँ भी मुफ्त में उपलब्ध कराई जाएंगी।

सेवारत, सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभ व विशेषताएँ

10 लाख की हैल्थ इनश्योरेंस स्कीम में सरकार अन्य खर्च देने का प्रावधान भी रखा है जिसकी सूची आप नीचे देख सकते हैं:

  • इलाज और ऑपरेशन के खर्च के अलावा ओपीडी खर्च के रूप में 10,000 रुपये देने का प्रावधान भी किया गया है।
  • इसके अलावा ऑपरेशन के बाद दवाओं के खर्च के लिए भी अलग से पैसे दिये जाएंगे।
  • रक्तचाप और मधुमेह जैसी बीमारियों की जांच के लिए अलग से राशि दी जाएगी।

इसके अलावा सिंह ने बताया कि विभिन्न निगमों-बोर्डों में अनुबंध के आधार पर काम करने वाले कर्मचारियों को भी योजना का लाभ देने के लिए विचार किया जा रहा है। बीमा की प्रीमियम राशि का निर्धारण सेवारत सरकारी कर्मचारी के “पे बैंड” और सेवानिवृत्त सरकारी सेवक की पेंशन राशि के अनुसार किया जाएगा। मासिक प्रीमियम (Premium Amount Health Insurance Scheme to all serving and retired Govt employees in MP) अंशदान राशि न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1000 रुपये होगी, जो सरकारी कर्मचारियों के वेतन में से काटी जाएगी।

SAVE AS PDF
Related Content

Leave a Comment

CLOSESHARE ON: