हरियाणा पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम ऑनलाइन आवेदन / पंजीकरण – किसानों को पशुधन पर लोन

Read in English
Dated: June 29, 2019 | Updated On: September 9, 2019 | By: Karan Chhabra |
Haryana Pashu Kisan Credit Card Scheme Registration Form

हरियाणा सरकार राज्य में गौ रक्षा के लिए सख्त कानून बनाने के बाद, अब देश में पहली बार किसानों को पशुधन के पालन के लिए पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम (Pashu Kisan Credit Card Scheme) शुरू करने की योजना बना रही है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Pashu Kisan Credit Cards Yojana) के माध्यम से चल रहे वित्त वर्ष के दौरान लगभग दस लाख किसानों को ये पशु किसान क्रेडिट कार्ड दिये जाएंगे। जिनका इस्तेमाल करके वे पशुधन से संबंधित या फिर अपनी जरूरत का समान खरीद सकते हैं। इस सरकारी योजना के लिए पंजीकरण / आवेदन (Apply & Fill Application / Registration Form for Pashu Kisan Credit Cards – PKCC) जल्द ही राज्य सरकार द्वारा शुरू किए जाएंगे।

राज्य सरकार का कहना है की पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम (Pashu Kisan Credit Cards Yojana – PKCC) देश में अपने आप की एक इकलौती योजना है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम के अंतर्गत दिये जाने वाले ऋण कार्ड ‘किसान क्रेडिट कार्ड’ की तर्ज पर शुरू किए जाएंगे।

वित्त वर्ष 2019-20 (Financial Year) में लगभग 10 लाख किसानों को क्रेडिट कार्ड देने का लक्ष्य राज्य सरकार ने रखा है जो आने वाले वर्षों में बढ़ा दिया जाएगा।

पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम आवेदन पत्र / पंजीकरण

सभी किसान जिनके पास मुर्रा भैंस है वे 76,300 रुपये प्रति भैंस, 71,325 रुपये प्रति विदेशी गाय और 70,825 रुपये प्रति देशी गाय पर क्रेडिट ले सकेंगे। इस क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके किसान अपनी ज़रूरत का कुछ भी समान खरीद सकते हैं, अगर वे 4 प्रतिशत की रियायती ब्याज दर का लाभ उठाना चाहते हैं तो उन्हे एक साल के अंदर-अंदर पैसा चुकाना होगा। अगर ऋणी पैसे नहीं चुका पाता है तो उसे बढ़ी हुई ब्याज दरों के साथ लोन चुकाना पड़ेगा वरना उम्मीदवार आगामी योजनाओं के लिए दिवालिया या डिफाल्टर हो सकता है।

जैसे यदि कोई व्यक्ति 4 जुलाई 2019 को 4,000 रुपये का अपने घर या पशुधन से संबंधित कोई जरूरी समान खरीदता है, तो उसे 1 साल के अंदर यानि 3 जुलाई, 2020 तक इसे चुकाना होगा। इससे किसानों की उधार देने वाले लोगों ऊपर निर्भरता खत्म होगी और साथ ही साथ वे इनके चंगुल से मुक्त होंगे।

पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम – इम्प्लीमेंटेशन

राज्य सरकार पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के कार्यान्वयन (Implementation of Pashu Kisan Credit Cards Scheme) के लिए विभिन्न चरणों का इस्तेमाल करेगी:

  • हरियाणा में पशु किसान क्रेडिट कार्ड के कार्यान्वयन में 24 डेयरी दूध संयंत्रों के साथ टाई-अप किया जाएगा। जिनके पास चिलिंग सेंटर्स भी उपलब्ध होंगे।
  • दूध संग्रह केंद्रों पर भरे गए किसानों द्वारा पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के आवेदन पत्रों को डेटा ऑपरेटरों और पशुपालन विभाग के अधिकारियों के सामने प्रस्तुत करना होगा।
  • इसके बाद, डेयरी में हर पशु की जानकरी “हर पशू का ज्ञान” ऐप में 1 तस्वीर के साथ डाली जाएगी। इस ऐप का इस्तेमाल पशुपालन विभाग पशुधन की जनगणना के लिए करती है।
  • जिसके बाद विवरण पूरा होने पर विभाग द्वारा बैंकों को जानकारी भेज दी जाएगी और सत्यापन होने के बाद अगले दिन दूध कलेक्शन पॉइंट पर किसानों को पशु किसान क्रेडिट कार्ड वितरित किए जाएंगे।

पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम – पात्रता,योग्यता

हरियाणा पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Pashu Kisan Credit Cards Yojana Eligibility) के लिए आवेदन करने के लिए आवेदक किसान के पास निम्न्लिखित पात्रता होनी चाहिए:

  • आवेदक हरियाणा का निवासी होना चाहिए।
  • किसान किसी अन्य बैंक से दिवालिया नहीं होना चाहिए या इस तरह की किसी अन्य योजना का लाभ ना ले रहा हो।
  • एक घर से केवल एक ही किसान इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है।

यह पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना किसानों को सशक्त करेगी जिससे उनकी उधार देने वालों पर निर्भरता कम होगी और बढ़े कर्ज के नीचे नहीं दबना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यह सुविधा पशुधन के साथ-साथ मछली, झींगा और अन्य जलीय जीवों के लिए कम समय या अल्पकालिक ऋण की आवश्यकताओं को भी पूरा करने में मदद करेगी।

क्यूंकि खारे पानी के झींगे के लिए 92,800 रुपये और मीठे पानी के झींगे के लिए यह 1.12 लाख रुपये निर्धारित है। हरयाणा सरकार ने यह राशि फीडिंग, श्रम, पशु चिकित्सा और बिजली आपूर्ति लागत को शामिल करने के बाद ही तय करी है। हरियाणा में लगभग 89 लाख पशुधन हैं जिनसे प्रतिदिन 44 लाख लीटर दूध का उत्पादन होता है। जिसमें से 29 लाख किसान परिवार हैं जो अपनी दैनिक आय के लिए पशुधन पर निर्भर हैं।

SAVE AS PDF
Related Content