आयुष्मान भारत योजना 2019, 2018 के लिए किसी ऑनलाइन आवेदन या रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं – पूरी जानकारी

Dated: December 19, 2018 | Updated On: May 6, 2019 | By: Karan Chhabra | | Beneficiary of Scheme: |

आयुष्मान भारत योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में शुरू की गई एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसकी घोषणा 2017-18 के केंद्रीय बजट में की गई थी। भारत सरकार इस योजना के तहत 2 प्रकार से लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी सहायता प्रदान करेगी।

आयुष्मान भारत योजना 2019, 2018 के लिए लाभार्थियों का चयन एक विशेष प्रक्रिया द्वारा किया जा रहा है। इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार का कोई भी ऑनलाइन आवेदन या रजिस्ट्रेशन नहीं करना है और ना ही किसी के झांसे में आने की जरूरत है।

अगर आयुष्मान भारत योजना के रजिस्ट्रेशन अथवा आवेदन के लिए आपसे कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार की फीस की मांग करता है तो वह गलत है और उसकी जानकारी अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में दे सकते हैं या आयुष्मान भारत योजना की हेल्पलाइन “14555” पर संपर्क कर सकते हैं।

आयुष्मान भारत योजना के तहत भारत सरकार द्वारा चलायी जाने वाली 2 पहलों में से एक है राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (National Health Protection Mission) और दूसरी है स्वास्थ्य कल्याण केंद्र (Health and Wellness Centers)। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के तहत भारत सरकार देश के करीब 10 करोड़ गरीब परिवारों को 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा प्रदान करेगी। इस बीमा योजना के तहत सभी गरीब परिवार अस्पतालों में माध्यमिक और तृतीयक उपचार मुफ्त में (अथवा कैशलेस रूप से) करा सकेंगे।

आयुष्मान भारत योजना के तहत राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के लिए लाभार्थियों का चयन SECC (सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना) के डाटा के अनुसार किया जाएगा। इस योजना में पूरे देश के ग्रामीण और शहरी इलाकों में रहने वाले गरीब परिवारों को शामिल किया जाएगा।

आयुष्मान भारत योजना 2019, 2018 के लिए कोई ऑनलाइन आवेदन नहीं

आयुष्मान भारत योजना के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के तहत भी भारत सरकार गरीब परिवारों से किसी भी प्रकार के ऑनलाइन आवेदन अथवा रजिस्ट्रेशन नहीं प्राप्त कर रही है।

इस योजना के लिए किसी भी प्रकार के ऑफलाइन अथवा ऑनलाइन आवेदन नहीं लिए जा रहे हैं।

जिस तरह सरकार प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana) के तहत मुफ्त में गैस कनेक्शन देने के लिए लाभार्थियों का चयन केवल SECC डाटा के आधार पर कर रही है इस योजना के लिए भी लाभार्थियों का चयन उसी प्रकार से हो रहा है और कोई आवेदन आमंत्रित नहीं किये जा रहे हैं।

आयुष्मान भारत योजना पात्रता मानदंड / लाभार्थी चयन

आयुष्मान भारत योजना के पात्रता मानदंड पूरी तरह से सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना (एसईसीसी) के आंकड़ों पर आधारित है, जो पूरे देश के ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों को कवर करता है। लाभार्थी परिवारों की कुल संख्या लगभग 10.74 करोड़ होगी जिसमें वंचित ग्रामीण परिवार और व्यावसायिक श्रेणी के आधार पर चयनित शहरी परिवार शामिल होंगे।

हालांकि, अगर भविष्य में SECC डेटा के नियमों में किसी भी प्रकार का बदलाव आता है अथवा बहिष्कार / शामिल किए जाने / वंचितता / व्यवसाय का मानदंड बदला जाता है यह योजना सभी परिवर्तनों को ध्यान में रखेगी और लाभार्थी परिवारों को उसी परिवर्तित मानदंडों के आधार पर शामिल किया जाएगा या हटा दिया जाएगा।

आयुष्मान भारत योजना का कार्यान्वयन और कवरेज

आयुष्मान भारत योजना को भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (Ministry of Health & Family Welfare) की देखरेख में आयुष्मान भारत राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन संस्था (Ayushman Bharat National Health Protection Mission Agency – AB-NHPMA) द्वारा संचालित किया जाएगा।

पूरे देश में सभी लक्षित लाभार्थी परिवारों को कवर करने के लिए आयुष्मान भारत योजना के तहत राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना / मिशन को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू किया जाएगा।

राज्य स्वास्थ्य एजेंसी (एसएचए), किसी मौजूदा ट्रस्ट / सोसायटी / नॉन-प्रॉफिट कंपनी / स्टेट नोडल एजेंसी का उपयोग करके बनाई गई या नवगठित, संबंधित राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में इस योजना के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार होगी।

READ IN ENGLISH: Ayushman Bharat Yojana Complete Details

अस्पतालों की सूची
इस योजना के तहत नकद रहित इलाज के लाभ देश भर में नकारात्मक सूची को छोड़कर सभी सरकारी अस्पतालों और सूचीबध्द निजी अस्पतालों में उपलब्ध होंगे। आयुष्मान भारत अस्पतालों की सूची देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

आयुष्मान भारत अस्पतालों की सूची

आयुष्मान भारत कार्यक्रम – मुख्य विशेषताएं

नीचे आयुष्मान भारत कार्यक्रम की मुख्य विशेषताएं निम्न प्रकार हैं

  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन और स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्र, आयुषमान भारत स्कीम के तहत शुरू की गई दो प्रमुख पहल हैं।
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन के तहत माध्यमिक और तृतीयक देखभाल अस्पताल में भर्ती के लिए प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपये तक का बीमा कवरेज प्रदान किया जाएगा।
  • पूरे देश में स्वास्थ्य केंद्रों / अस्पतालों में 1.5 लाख स्वास्थ्य और कल्याण केन्द्रों की शुरुआत की जाएगी। 18 हजार से अधिक स्वास्थ्य और कल्याण केन्द्रों पहले से ही शुरू किये जा चुके हैं।
  • लगभग 10 करोड़ वंचित ग्रामीण और शहरी परिवारों (देश की कुल आबादी का करीब 40%) का स्वास्थ्य बीमा कवरेज योजना के तहत किया जाना है।
  • लाभार्थियों का चयन SECC डेटा के आधार पर किया जाएगा।
  • लाभार्थी परिवार के आकार (परिवार में सदस्यों की संख्या) पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा।
  • इस योजना से रोगी का समय पर उपचार हो जाएगा और समग्र रोगी संतुष्टि में वृद्धि होगी। इस प्रकार स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं की समग्र दक्षता और उत्पादकता बेहतर होगी और जीवन की गुणवत्ता में सुधार होगा।
  • बीमा कवरेज का प्रीमियम वित्त मंत्रालय द्वारा परिभाषित अनुपात के आधार पर पूरी तरह से केंद्रीय और राज्य सरकारों द्वारा वहन किया जाएगा।
  • राज्य स्वास्थ्य एजेंसी (SHA) राज्यों में इस योजना के कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार निकाय होगा।
  • उपचार की लागत सरकार द्वारा अग्रिम रूप से तय की जाएगी ताकि लागत को नियंत्रित किया जा सके।
  • इस योजना के लाभ पूरे देश में पोर्टेबल होंगे, अर्थात् लाभार्थी देश में किसी भी सरकारी या निजी अस्पताल में कैशलेस उपचार का लाभ उठा सकता है।
  • कागज रहित और नकद रहित लेनदेन को सक्षम करने के लिए, केंद्र सरकार नीति आयोग के साथ भागीदारी में एक मजबूत, मॉड्यूलर, स्केलेबल और इंटरऑपरेटेड आईटी प्लेटफॉर्म स्थापित करेगा।
  • आयुष्मान भारत – राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन के अंदर केन्द्र प्रायोजित योजनाएं – राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (RSBY) और वरिष्ठ नागरिक स्वास्थ्य बीमा योजना (SCHIS) शामिल होंगी।

अधिक जानकारी के लिए प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना अथवा आयुष्मान भारत की आधिकारिक वेबसाइट pmjay.gov.in पर जाएँ।

Related Content